Breaking News

Mahabharat Spoiler: मां कुंती की आज्ञा का निरादर नहीं करेंगे पांचों पांडव, जल्द लेंगे द्रौपदी संग सात फेरे


दूरदर्शन पर दोबारा टेलीकास्ट किए जा रहे Mahabharata को दर्शकों द्वारा काफी पसंद किया जा रहा है। शो में लगातार आ रहे ट्विस्ट और टर्न्स कहानी को और भी दिलचस्प बना रहे हैं। अब तक की कहानी में आपने देखा है कि पांडव अपनी मां कुंती के साथ अज्ञातवास में समय काट रहे हैं। लाक्षागृह में लगी आग से बचने के बाद पांचों भाइयों ने अपनी पहचान छुपाने के लिए साधुओं का भेष धरा है। नगर में घूमते-घूमते पांडव राजा द्रुपद की बेटी द्रौपदी के स्वयंवर में जा पहुंचते हैं, जहां देशभर के राजकुमार, द्रौपदी से शादी करने के लिए पहुंचे हैं। यहां पर पांडवों का भाई दुर्योधन भी आया हुआ है लेकिन वो पांचों पांडवों को पहचान नहीं पा रहा है। 




इस स्वयंवर की शर्त यह है कि जो राजकुमार पानी में देखकर मछली की आंख पर निशाना लगाएगा, वो द्रौपदी से शादी कर सकेगा। ऐसे में एक के बाद एक राजा खड़े होते हैं लेकिन मछली की आंख भेदने में नाकामयाब रहते हैं। इस दौरान सभी के झुके हुए सिर देखने के बाद सूर्यपुत्र कर्ण खड़े होते हैं और धनुष को प्रणाम करते हुए एक ही बार में उसे उठा लेते हैं। लेकिन द्रौपदी अपने सखा कृष्ण के इशारे पर कर्ण को रोकते हुए कहती है कि वो सूत पुत्र से विवाह नहीं करेंगी। इसके बाद ब्राह्मण का भेष धरे अर्जुन आगे आते हैं और धनुष उठाकर मछली की आंख को भेदने के लिए निशाना लगाते हैं। ब्राह्मण के भेष में अर्जुन के कौशल को देखकर हर कोई हैरान रह जाता है। 



महाभारत के अगले एपिसोड में आप देखेंगे कि शादी के बाद पांडव द्रौपदी को अपना सच बता देंगे और माता कुंती के पास चले जाएंगे। जब अर्जुन स्वयंवर से लौटेंगे तो उस समय कुंती खाना बना रही होंगी। रसोईघर में आकर अर्जुन अपनी मां से कहेंगे कि हम आपके लिए कुछ लाए हैं। कुंती बिना देखे ही अपने बेटों को आदेश दे देंगी की, जो भी चीज है उसे पांचों में बांट लिया जाए। 

मां के इस कथन के चलते पांचों पांडवों की शादी द्रौपदी से हो जाएगी। शादी के दौरान कुंंती, द्रौपदी को वचन देंगी कि भले ही पांडव भाई किसी और दूसरी राजकुमारी से शादी कर लें लेकिन रानी का दर्जा केवल उन्हीं को मिलेगा। पांचों पांडवों के साथ सात फेरे लेने की वजह से ही द्रौपदी को पांचाली के नाम से भी बुलाया जाएगा।

No comments